Home भारत एबीपी सीवोटर के सर्वे ने यूपी में बीजेपी को दिखाया फिर से...

एबीपी सीवोटर के सर्वे ने यूपी में बीजेपी को दिखाया फिर से बहुमत मिलता, कांग्रेस का बताया ये हाल

पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के अब कुछ ही महीने शेष हैं। साल 2022 में गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव कराए जाएंगे। इन राज्यों में सबसे ज्यादा चर्चा का विषय उत्तर प्रदेश औऱ पंजाब बना हुआ है। यूपी में भाजपा समेत अन्य पार्टियों ने भी अपना चुनावी अभियान तेज कर दिया है। वहीं अभी गठबंधन को लेकर भी चर्चाएं गर्म हैं।

एबीपी सीवोटर के एक सर्वे के मुताबिक उत्तर प्रदेश में भाजपा एक बार फिर सत्ता में वापसी कर सकती है। वहीं पंजाब में कांग्रेस की सियासी कलह का फायदा आम आदमी पार्टी को मिल सकता है। उत्तराखंड की बात करें तो नए मुख्यमंत्री धामी के नेतृत्व में भाजपा की पकड़ अब भी मजबूत है और भाजपा सत्ता में वापसी कर सकती है।

उत्तर प्रदेश में भाजपा की वापसी? किसे कितनी सीटें मिल सकती हैं

एबीपी सीवोटर के सर्वे के मुताबिक यूपी में भाजपा सरकार तो फिर बना सकती है लेकिन 2017 के मुकाबले उसकी सीटों में कमी आ जाएगी। इस सर्वे के अनुसार अगर अभी चुनाव कराए जाते हैं तो भाजपा को सबसे ज्यादा 41 फीसदी वोट हासिल हो सकते हैं।

वहीं सपा को 32 और बीएसपी को महज 15 फीसदी वोट ही मिलेंगे। कांग्रेस की स्थिति सुधारने के लिए प्रियंका गांधी काफी ऐक्टिव हैं। लेकिन वर्तमान परिस्थिति में पार्टी को केवल 6 फीसदी वोट मिलते नज़र आ रहे हैं।

सीटों का समीकरण

इस सर्वे के अनुसार अगर अभी चुनाव होते हैं तो भाजपा को 241 से 249 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं सपा को 130 से 138 , बीएसपी को 15 से 19 औऱ कांग्रेस को मात्र 3 से सात सीटें मिल सकती हैं। कुल 403 सीटों पर किए गए सर्वे के मुताबिक चार सीटें अन्य पार्टियां जीत सकती हैं। इस हिसाब से भाजपा अब भी बहुमत के साथ सरकार बनाने की स्थिति में हैं।

पंजाब में चल सकता है AAP का झाड़ू

उत्तर प्रदेश के बाद सबसे ज्यादा सियासी हलचल वाला प्रदेश इन दिनों पंजाब बना हुआ है। सर्वे की बात करें तो यहां कांग्रेस की सियासी कलह का फायदा सीधे तौर पर आम आदमी पार्टी को मिलता दिख रहा है। अगर अभी चुनाव कराए जाते हैं तो AAP का वोट शेयर भी सबसे ज्यादा 36 फीसदी रह सकता है। वहीं कांग्रेस को 32 और अकाली दल को 22 फीसदी वोट हासिल हो सकते हैं।

सर्वे के मुताबिक आम आदमी पार्टी को 117 में से 49 से 55 सीटें मिल सकती हैं। इस हिसाब से आप सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर सकती है। हालांकि बहुमत का आंकड़ा फिर भी दूर है। कांग्रेस की बात करें तो पार्टी की सीटों में बड़ी गिरावट आने का अनुमान है। कांग्रेस को 39 से 47 सीटें मिल सकती हैं।

अकाली दल केवल 17 से 25 सीटें ही जीत पाएगी। इस बार पंजाब में भाजपा अलग चुनाव लड़ेगी। हालांकि इसका सिक्का चलता दिखायी नहीं दे रहा है। एक सीट भाजपा के खाते में जा सकती है। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 77, अकाली दल को 15 और आप को 20 सीटें हासिल हुई थीं।

उत्तराखंड में भाजपा की मजबूत पकड़

उत्तराखंड में पिछले कुछ महीनों में दो बार मुख्यमंत्री बदले जा चुके हैं। हालांकि सर्वे के मुताबिक धामी के नेतृत्व में उत्तराखंड में भाजपा की मजबूत पकड़ बनी हुई है। एबीपी सीवोटर का सर्वे कहता है कि भाजपा का वोट शेयर इस बार थोड़ा सा बढ़ सकता है।

अगर अभी चुनाव हुए तो उत्तराखंड में कुल 70 सीटों में से 42 से 44 सीटैं मिल सकती हैं। वहीं कांग्रेस का गठबंधन 21 से 25 सीटों पर जीत हासिल कर सकता है। इस बार आम आदमी पार्टी भी उत्तराखंड में जोर आजमाइश कर रही है। सर्वे के मुताबिक यहां आप को ज्यादा फायदा होता नहीं दिख रहा है। पार्टी को 0 से 4 सीटें मिलने का अनुमान है।

गोवा और मणिपुर में भाजपा सरकार?

साल 2022 में गोवा और मणिपुर में भी विधानसभा के चुनाव होने हैं। एबीपी सीवोटर के मुताबिक मणिपुर में भाजपा सत्ता पर काबिज हो सकती है। यहां भाजपा को सबसे ज्यादा 35.6 फीसदी वोट हासिल हो सकते हैं। कांग्रेस को 34.5 फीसदी और NPF को 8.6 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है।

सीटों की बात करें तो पिछले विधानसभा में चुनाव में कांग्रेस से कम सीटें जीतने के बाद भी भाजपा ने एनपीपी, एपीएफ और निर्दलीय विधायकों की मदद से सरकार बना ली थी। इस बार भाजपा को 28 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं कांग्रेस की सीटें घटकर 23 हो सकती हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 28 सीटों पर जीत हासिल की थी।

गोवा की बात करें तो यहां फिर से भाजपा की स रकार बन सकती हैं। सर्वे के मुताबिक गोवा की 40 सीटों वाली विधानसभा में भाजपा 27 सीटें जीत सकती है। इस हिसाब से भाजपा बहुमत की सरकार बनाने की स्थिति में है। वहीं कांग्रेस की सीटों में बड़ी कमी आ सकती है। पिछली बार कांग्रेस ने 17 सीटें हासिल की थीं लेकिन इस बार केवल चार सीटों का अनुमान है।

राहुल गांधी से खुश नहीं 5 राज्यों के लोग!

सर्वे के मुताबिक इन पांच राज्यों में 40 फीसदी लोग राहुल गांधी की कार्यशैली से खुश नहीं हैं। वहीं 18.5 फीसदी लोगों को राहुल गांधी का काम काफी पसंद आया। 20.2 फीसदी लोग ऐसे हैं जिन्हें राहुल गांधी का काम ठीक-ठाक लगता है। 21 फीसदी लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने ‘पता नहीं’ में जवाब दिया।

पंजाब की बात करें तो यहां आधे से ज्यादा लोग राहुल गांधी के काम से खुश नहीं हैं। उत्तर प्रदेश में 46 फीसदी लोग राहुल गांधी से संतुष्ट नहीं हैं।

Previous articleचेहरे पर झुर्रियां और सफ़ेद बाल, राखी सावंत का फर्स्ट टाइम ऐसा लुक आया सामने
Next articleआर्यन खान के साथ पार्टी में पकड़ी गई ये 39 साल की मॉडल जानिए है कौन