Home भारत Bharatpur में अपराधी बेखौफ, सरेआम चिकित्सक दंपति की गोली मारकर हत्या

Bharatpur में अपराधी बेखौफ, सरेआम चिकित्सक दंपति की गोली मारकर हत्या

थाना प्रभारी राजेन्द्र शर्मा ने बताया कि बाइक सवार दो बदमाशों ने सर्कुलर रोड पर केन्द्रीय बस स्टेंड के पास सुदीप गुप्ता (46) और उनकी पत्नी सीमा गुप्ता (44) की हत्या कर दी.

भरतपुर में शुक्रवार को अपने निजी क्लीनिक से कार में सवार होकर हीरादास बस स्टेंड की तरफ कहीं जा रहे डॉक्टर दंपत्ति की हथियारों से लैस बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी. डॉक्टर दंपति की हत्या करने वाले बदमाशों की यह करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई.

मृतक दंपति की पहचान डॉ सुमित गुप्ता व उनकी पत्नी डॉ सीमा गुप्ता के रूप में हुई है जो अपना निजी क्लीनिक चलाते हैं. वहीं, मर्डर की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची व दोनों शवों को जिला आरबीएम अस्पताल की मोर्चरी में पोस्टमार्टम के लिए रखवाया है. इधर, गोली मारकर हत्या करने वाले फरार दोनों बदमाशों की पहचान हो गई व गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम का गठन कर दिया गया है.

जिला पुलिस अधीक्षक देवेंद्र कुमार विश्नोई ने बताया कि सूचना मिली थी कि एक डॉक्टर दंपत्ति अपनी कार में सवार होकर कहीं जा रहे थे, जहां रास्ते में हथियारों से लैस दो बदमाशों ने उनकी कार को रोक लिया और पति-पत्नी दोनों की गोली मारकर हत्या कर दी.

विश्नोई ने कहा कि फरार हुए बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम गठित कर दी गई है जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. जानकारी के अनुसार, जिस लड़की के साथ डॉ सुदीप गुप्ता के अवैध संबंध थे, उस लड़की व उसके बच्चे को मृतक डॉक्टर सीमा गुप्ता ने घर के अंदर जलाकर मारा था और उस मर्डर मामले में डॉक्टर दंपत्ति जेल में सजा काट चुके हैं.

आईजी प्रसन्न कुमार खमसेरा ने बताया कि वर्ष 2019 में अगस्त माह में सूर्या सिटी के अंदर घर में आग लगाकर मां बेटे की डाक्टर दम्पति ने हत्या की. उसी मृतका दीपा के भाई अनुज ने अपने दोस्त महेश के साथ मिकार इस हत्या की वारदात को अंजाम दिया और फरार हो गए जिनकी पहचान हो चुकी है. पुलिस ने सीसीटीवी के आधार पर आरोपियों को पहचान लिया है. जल्द आरोपी पुलिस की पकड़ में होंगे.

दरअसल वर्ष 2019 में मृतक डॉक्टर सीमा गुप्ता ने अपने पति के साथ नाजायज संबंध में रह रही एक लड़की दीपा व उसके 6 वर्षीय पुत्र की घर में आग लगाकर हत्या कर दी थी और उस हत्या के आरोप में डॉ सीमा गुप्ता व उसका पति डॉ सुदीप गुप्ता और उसकी मां को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लेकिन वर्ष 2020 में तीनों जमानत पर रिहा होकर आ गए थे.