लाइव डिबेट में कांग्रेस प्रवक्ता ने एंकर अमीश देवगन पर लगाया ये आरोप, तो लोगों ने कहा: ‘बी एंड डी भी…

कश्मीर के मुद्दे पर हो रही टीवी डिबेट के बीच कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे से एंकर अमिश देवगन उलझ गए। उन्होंने कांग्रेस प्रवक्ता का ऑडियो डाउन कराते हुए कहा कि कुछ लोग इस देश का खाकर इसी देश के खिला’फ काम करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस देश में क’ट्ट’र इस्ला’मिक सोच को बढ़ाने वाले नेता हैं।

न्यूज़ 18 इंडिया के शो ‘आर – पार’ में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कश्मीर और बांग्लादेश में जो भी हिंदुओं के खिला’फ घ’टना हो रही है उसको लेकर नरेंद्र मोदी सरकार चुप क्यों है? आप पीएम मोदी को कवर फा’यर दे रहे हैं।

एंकर ने इस बात पर चिल्लाते हुए कहा कि मैं कवर फायर नहीं दे रहा हूं। इस तरह के काम वह नेता करते हैं जो अनुच्छेद 370 हटने पर कहते हैं, कश्मीर में क’त्ले’आ’म हो रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, आप जैसे लोग जब तक मोदी सरकार को बचाने के लिए काम करते रहेंगे तब तक देश को नुकसान होगा। अपनी बात को आगे रखते हुए एंकर ने कहा, ‘ इस देश में रहकर इस देश के खिला’फ काम करने वाले लोगों को पहचानना बहुत जरूरी हो गया है। मैं यहां पर किसी का नाम नहीं ले रहा हूं।’

एंकर के जवाब में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि बांग्लादेश में मंदिर तो’ड़े गए, उसको लेकर मोदी जी से आपने सवाल पूछा? इस मुद्दे को लेकर एंकर और कांग्रेस प्रवक्ता में ती’खी बह’स होने लगी। इस ट्वीट पर तमाम यूज़र ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है।

शाकिब (@beingSaqib123) ने लिखा- पहले कश्मीर की दु’र्दशा के लिए वहां के नेता, वहां की सरकार और वहां की राजनीतिक पार्टियां जिम्मेदार थी। अब सब कुछ एक पार्टी, एक सरकार के हाथ में है। सब कुछ पीएम नरेंद्र मोदी के हाथ में होते हुए भी यह किसी को पता नहीं है कि इस दु’र्दशा के लिए कौन जिम्मे’दार है।

डॉ भरत के टि्वटर अकाउंट से लिखा गया कि भारत कुपो’षण का शिका’र हो गया है। लेकिन टीवी चैनल पर इसको लेकर नहीं बल्कि अ’र्बन नक्स’ल को लेकर डिबेट की जा रही है। रिजवान रियाज (@RizwanRiyaz11) लिखते हैं, कुछ लोग इस देश का खाकर राजनी’तिक पार्टियों की गुलामी करते हैं। जनता के मुद्दे छो’ड़कर प्रोपे’गेंडा फैला’ने में विश्वास रखते हैं।

गौरतलब है कि कश्मीर में आतं’कवा’दी आम ना’गरिकों को अपना निशा’ना बना रहे हैं। वहां पर 1 महीने के भीतर 11 नाग’रिकों की ह’त्या हो चुकी है। सुरक्षा बल भी लगातार मु’ठभे’ड़ में आ’तंकियों को मा’र रहे हैं।

कश्मीर की मौजूदा स्थिति के मद्देनज़र वि’रोधी कहने लगे हैं कि नब्बे के दशक वाला दौर लौटने लगा है। उधर, पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भी मौजूदा प्रशासन पर क’टाक्ष किया और कहा कि मेरे राज्यपाल रहते श्रीनगर के 50 किलोमीटर के दायरे में आ’तंकियों की घु’सने की हिम्मत नहीं होती थी।