इन आठ लोगों को हमेशा रहता है हार्ट अटैक का खतरा, जानिए इनमें आप भी तो नहीं

loading...

भारत में हार्ट अटैक की बीमारी बुजुर्गों को होने वाली बीमारी मानी जाती थी। लेकिन बीते कुछ सालों में युवाओं को भी हार्ट अटैक की बीमारी होनी शुरु हो गई हैं। बीते कुछ सालों में 30 से 35 साल के युवाओं को भी हार्ट अटैक हुआ है। एक सर्वे के अनुसार देश में 25 प्रतिशत मृत्यु का कारण हार्ट अटैक है। जबकि यही आंकड़ा दुनिया में हर 1 लाख जनसंख्या पर 235 लोगों को हृदय रोग होते हैं, पर चिंता का विषय ये है कि देश में 272 लोग इस बीमारी से परेशान हैं। देश में अब तक ये भावना रही है कि हार्ट अटैक का खतरा मोटे लोगों में ज्यादा होता है। लेकिन आज परिस्थिति बदल चुकी है।

आज देश के ज्यादातर अस्पतालों में दम तोड़ने वालों में सबसे ज्यादा संख्या दिल की बीमारी की है। ऐसे में ये जानना जरूरी है। कि ऐसे कौन से कारण है जो दिलों को फेल कर रहा है। और लोगों को बेवजह मौत के घाट उतार रहा है। जानना ये भी जरूरी है कि ऐसे कौन से लोग हैं, जो इससे सबसे ज्यादा पीड़ित है। आईए बताते हैं किन लोगों को सबसे ज्यादा हार्ट अटैक की आशंका रहती है।

मोटापे से ग्रसित लोगों कोः मोटापे का सबसे बड़ा कारण होता है फैट का ज्यादा होना। मोटे लोगों में माना जाता है कि बीपी हाई, डायबिटीज और कोलेस्ट्रॉल की बीमारी आम है। जिन लोगों का उनके हाइट से ज्यादा वजन होता है। उनकी दिल की नसों में फैट बढ़ना शुरु हो जाता है। जिससे हृदय घात का खतरा बढ़ जाता है।

अनुवांशिक लक्षणः डॉक्टरों की रिसर्च बताती है, जिन लोगों के बुजुर्गों में हार्ट अटैक की बीमारी रहती है, उनकी आने वाली पीढ़ियों में भी हार्ट अटैक का खतरा रहता है। ऐसे लोगों के लिए डॉक्टर्स बताते हैं कि उन्हें हमेशा एक्टिव और डेलीरुटीन ठीक रखनी चाहिए। साथ ही बीच बीच में चेकअप भी कराते रहना चाहिए।

शुगर पेसेंटः जिन लोगों में शुगर की बीमारी होती है, उनको भी सबसे ज्यादा हार्ट अटैक का खतरा रहता है। नसों के बंद होने का खतरा बना रहता है। जिसके कारण हार्ट अटैक की समस्या बढ़ जाती है।

हाई ब्लड प्रेशरः जिन लोगों को हाई बीपी की समस्या होती है। उनका कोलेस्ट्राल भी अधिक बढ़ जाता है। जो कि हार्ट अटैक का कारण बन सकता है।

जेनेटिकः कहा जाता है कि कई ऐसी गंभीर बीमारियां होती है जो कि जेनेटिक होती है। उसी तरह हार्ट अटैक भी आपको जेनेटिक हो सकता है। यह समस्या उन लोगों को होती है जिन लोगों के माता-पिता दिल की बीमारी हो। इससे बचने के लिए आप हेल्दी डाइट लें।

शारीरिक परिश्रमः हार्ट की बीमारी उन लोगों को कम होती है, जो स्पोर्टस् में एक्टिव रहते हैं, साथ ही बैठे बैठे सिर्फ खाते हैं, और अपना वजन बढ़ाते हैं उनको हार्टअटैक का खतरा ज्यादा रहता है।

ज्यादा स्मोकिंग करनाः जो लोग हद से ज्यादा स्मोकिंग करते है। उनकी हार्ट से ब्लड पहुंचाने वाली नर्व्स ब्लॉक हो जाती है। जिसके कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

उम्र दराजः बढ़ती उम्र के साथ-साथ एक्सरसाइज में न ध्यान देने से कोलेस्ट्राल बढ़ जाता है। जिसके कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

loading...