Home भारत गुजरात दं’गों पर सुप्रीम कोर्ट में बोली जकिया जाफरी, कहा: ‘कारसेवकों के...

गुजरात दं’गों पर सुप्रीम कोर्ट में बोली जकिया जाफरी, कहा: ‘कारसेवकों के श’वों को घुमाकर तैयार की गई..’

साल 2002 में गुजरात दं’गे के दौरान मा’रे गए दिवंगत सांसद एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी ने एसाईटी द्वारा तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य लोगों की दी गई क्लीन चिट के खिला’फ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है।

मामले की सुनवाई के दौरान जाफरी की तरफ से कोर्ट से कहा गया कि दं’गों की भूमिका तब बनाई गई जब हिं’सा में मा’रे गए का’रसेवकों के ज’ले श’वों को इलाके में घु’माया गया और उनका प्रदर्श’न किया गया।

बता दें कि जकिया जाफरी के साथ ‘द सिटिजन फॉर जस्टिस ऐंड पीस’ नाम के संगठन ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी है। जकिया जाफरी के वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा, ‘ज’ले हुए शवों’ की तस्वीरें ली गईं और उनके जरिए घृ’णा फै’लान की कोशिश की गई।

उस दौरान किसी का भी फोन जब्त नहीं किया गया।’ इस मामले की सुनवाई जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी औऱ जस्टिस सीटी रवि कुमार की बेंच कर रही थी।

कपिल सिब्बल ने कोर्ट में संकेत दिया कि दं’गे के पीछे सरकार के बड़े लोगों औऱ पुलिस का हाथ था। उन्होंने कहा, ‘यह पूरी सा’जिश वीएचपी के आचार्य गिरिराज किशोर ने रची थी जिन्हें पुलिस सुरक्षा केस साथ उस अस्पताल तक ले जाया गया था जहां श’व रखे गए थे।’

बता दें कि एहसान और अन्य लोगों की ह’त्या अहमदाबाद की गुलबर्ग सोसाइटी में हुए न’रसं’हार के दौरान हुई थी। आ’रोप है कि मदद की मांग करने के बावजूद प्रशासन ने उनकी बात नहीं सुनी थी।

जकिया जाफरी ने तत्कालीन सीएम मोदी पर सा’जिश का आ’रोप लगाया था जिसकी जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक एसआईटी बनाई थी।

ट्रायल कोर्ट ने एसआईटी की क्लोजर रिपोर्ट 2013 में स्वीकार की और गुजरात कोर्ट ने 2017 में उस फैसले को बरकरार रखा। बाद में जकिया ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की।

कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा, ‘एसआईटी केवल आरो’पियों को बचाने का प्रयास कर रही थी। यह आपके ही आदेश के बाद बनाई गई थी। कार सेवकों के श’व पर गुजरात प्रशासन और वीएचपी के बा’हुबलियों की तरफ से जो राजनी’ति की गई, उसी वजह से इतनी हिं’सा हुई।

श’वों का पो’स्टमॉर्ट’म जब प्ले’टफॉर्म पर ही हो गया था तो उन्हें या तो परि’जनों को सौंपना चाहिए था या फिर द’फना’ना चाहिए था।’

Source: Jansatta

Previous articleकंगना रनौत को मिला पद्म श्री तो भड़के सोनू सूद के फैंस, नाराजगी जाहिर कर शेयर कर रहे ऐसी तस्वीरें
Next articleफेसबुक की रिपोर्ट में दावा: ‘चुनाव से पहले यह अफवाह फ़ैलाने में शामिल थे असम के सीएम हेमंत बिस्व सरमा’