हिमाचल प्रदेश उपचुनाव में बीजेपी का सूपड़ा साफ़, लोकसभा के अलावा तीनों सीटों पर कांग्रेस का कब्ज़ा

कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा सीट और तीनों विधानसभा सीटें जीत ली। इसके साथ ही राज्य में सरकार चला रही BJP का उपचुनाव में सफाया हो गया।

मंडी संसदीय सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह ने भाजपा के रिटायर्ड ब्रिगेडियर खुशहाल सिंह को 8766 वोटों से हराया। इसके बाद, राज्य के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा- हम महंगाई की वजह से उपचुनाव में हारे।

राज्य की अर्की विधानसभा सीट पर कांग्रेस के संजय अवस्थी, जुब्बल-कोटखाई सीट पर रोहित ठाकुर और फतेहपुर सीट पर कांग्रेस के भवानी सिंह पठानिया ने जीत दर्ज की।

जुब्बल-कोटखाई सीट पर तो भाजपा प्रत्याशी तीसरे स्थान पर रही। उपचुनाव से पहले मंडी लोकसभा सीट और जुब्बल-कोटखाई विधानसभा सीट भाजपा के पास थी वहीं अर्की और फतेहपुर विधानसभा सीटें कांग्रेस के पास थीं।

प्रतिभा सिंह ने कारगिल वार हीरो को हराया

हिमाचल प्रदेश में मंडी लोकसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह ने भाजपा कैंडिडेट और कारगिल वॉर के हीरो रिटायर्ड ब्रिगेडियर खुशहाल सिंह को 8766 वोटों से हराया। प्रतिभा सिंह को कुल 3 लाख 65 हजार 650 और ब्रिगेडियर खुशहाल सिंह को 3 लाख 56 हजार 884 वोट मिले।

मंडी संसदीय सीट पर 30 अक्टूबर को हुए मतदान में कुल 7 लाख 42 हजार 771 वोटरों ने वोट दिए थे। इनमें से कांग्रेस की प्रतिभा सिंह को कुल 365650 वोट मिले। यह कुल वोटिंग का 49.23% रहा। इसी तरह भाजपा कैंडिडेट खुशहाल सिंह को कुल 356884 वोट मिले जो वोटिंग का 48.05% रहा। इस तरह यहां कांग्रेस ने भाजपा से 1.18% अधिक वोट लेकर जीत दर्ज की।

अर्की में सुबह से पहले नंबर पर रहे संजय अवस्थी

अर्की विधानसभा सीट पर कांग्रेस के संजय अवस्थी ने भाजपा उम्मीदवार रतन सिंह पाल को 3219 वोटों से हराया। यहां संजय अवस्थी ने सुबह 8 बजे मतगणना शुरू होने के साथ ही बढ़त बना ली और आखिर तक पहले नंबर पर बने रहे।

30 अक्टूबर को हुए मतदान में अर्की सीट पर कुल 60550 वोट पड़े थे और कांग्रेस के संजय अवस्थी को इसमें से 30798 मत मिले। दूसरे नंबर पर रहने वाले भाजपा के रतन सिंह पाल को 27579 वोट मिले। आखिरी राउंड में भाजपा प्रत्याशी को अधिक वोट मिले मगर वह संजय अवस्थी की लीड को पार नहीं कर पाए और 3219 वोटों से हार गए।

जुब्बल-कोटखाई में भाजपा को भारी पड़ा बरागटा का टिकट काटना

जुब्बल-कोटखाई सीट पर सुबह से ही मुकाबला कांग्रेस के रोहित ठाकुर और भाजपा से बागी होकर, निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले चेतन बरागटा के बीच रहा। यहां रोहित ठाकुर ने बरागटा को 6293 वोटों से हराया। उपचुनाव के दौरान जुब्बल-कोटखाई सीट पर 30 अक्टूबर को 56607 लोगों ने वोट दिया। इसमें से रोहित ठाकुर को 29955 वोट मिले।

भाजपा के पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा के बेटे और निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले चेतन सिंह बरागटा दूसरे नंबर पर रहे। उन्हें 23662 मत मिले। ​​​​​​​यहां भाजपा ने चेतन बरागटा की जगह नीलम सरैइक को टिकट दिया था जो कभी भी मुकाबले में नजर नहीं आईं। सुबह से ही तीसरे नंबर पर रहीं नीलम को महज 2644 वोट मिले।

फतेहपुर में पठानिया ने ठाकुर को 5789 वोटों से हराया

फतेहपुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस के भवानी सिंह पठानिया और भाजपा उम्मीदवार बलदेव ठाकुर के बीच आखिरी डेढ़ घंटे से पहले तक कांटे का मुकाबला रहा और उसके बाद पठानिया ने 5789 वोट से जीत दर्ज की।

30 अक्टूबर को मतदान में फतेहपुर विधानसभा सीट पर कुल 57095 लोगों ने वोट दिया था। इसमें से 24449 वोट लेकर कांग्रेस के भवानी सिंह पठानिया ने जीत दर्ज की। दूसरे नंबर पर रहे भाजपा के बलदेव ठाकुर को 18660 वोट मिले।