Home दुनिया इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी ने इस्लाम धर्म छोड़ अपनाया हिंदू...

इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी ने इस्लाम धर्म छोड़ अपनाया हिंदू धर्म, पहले लग चुके हैं ये आरोप

इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री ने इस्लाम छोड़कर हिंदू धर्म की राह पकड़ ली है। सुकमावती ने मंगलवार को इंडोनेशिया की सबसे ज्यादा हिंदू आबादी वाले स्टेट बाली में एक सेरेमनी ‘सुधी वादानी’ के दौरान हिंदू धर्म स्वीकार किया।

सुकमावती सुकर्णो की तीसरे नंबर की बेटी हैं। उनका पूरा नाम दायाह मुतियारा सुकमावती सुकर्णोपुत्री है। उनके हिंदू धर्म स्वीकार करने का समारोह बाली के बाले आगुंग सिंगाराजा जिले में सुकर्णो हेरिटेज सेंटर में किया गया। मंगलवार को सुकमावती का 70वां जन्मदिन भी था।

यूसीए न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, समारोह के लिए सुकर्णो सेंटर में बेहद सख्त सुरक्षा इंतजाम किए गए थे और केवल 50 लोगों को ही बुलाया गया था, जिनमें से ज्यादातर उनके फैमिली मेंबर थे। कम लोगों को बुलाने का डिसीजन कोविड-19 प्रोटोकॉल के कारण भी लिया गया था।

दादी को भी हिंदू धर्म में था यकीन

CNN इंडोनेशिया की रिपोर्ट के मुताबिक, सुकमावती के इस फैसले के पीछे उनकी दिवंगत दादी इदा अयू नयोमान राई श्रीमबेन की प्रेरणा है, जो खुद हिंदू धर्म में यकीन रखती थीं।

सुकमावती के वकील ने तीन दिन पहले सभी को सुकमावती के फैसले की जानकारी दी थी। तब उन्होंने कहा था कि सुकमावती को हिंदू धर्म की काफी जानकारी है। वह हिंदू धर्म के सभी सिद्धांतों और परंपराओं से भी पूरी तरह वाकिफ हैं।

तीन साल पहले लगे थे इस्लाम निंदा के आरोप

सुकमावती का हिंदू धर्म ग्रहण करने का निर्णय उनके ऊपर इस्लाम निंदा को लेकर लगे आरोपों के तीन साल बाद आया है। 2018 में कई समूहों ने उनकी तरफ से एक फैशन इवेंट में पेश की गई कविता को लेकर पुलिस से शिकायत की थी।

इन समूहों ने उन पर कविता के जरिए शरिया कानून, हिजाब की आलोचना करने और मुस्लिमों से प्रार्थना करने की अपील करने का आरोप लगाया था।

2019 में एक बार फिर उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत की गई थी। इस बार उन पर नेशनल हीरोज डे के दिन अपने पिता सुकर्णो की तुलना पैगंबर मोहम्मद से करने का आरोप लगा था। हालांकि पुलिस ने सबूतों की कमी के कारण ये सभी मामले बंद कर दिए थे।

यह भी है सुकमावती की पहचान

इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति सुकर्णो की तीसरे नंबर की बेटी

देश की 5वीं राष्ट्रपति मेघावती सुकर्णोपुत्री की छोटी बहन भी

इंडोनेशियन नेशनल पार्टी (PNI) की संस्थापक हैं सुकमावती

कानजेंग गुस्ती पैंगेरन आदिपति आर्या मांगकुनेगरा IX से किया था निकाह

1984 में अपने पति से तलाक लेने के बाद राजनीतिक जीवन शुरू किया

सुकमावती पर इस्लाम की निंदा का आरोप लगाने वाले खुश

सुकमावती के खिलाफ इस्लाम की निंदा के आरोप में पुलिस में शिकायत दर्ज करने वाले वकील नावेल चैदिर हसन बामुकमिन ने उनके हिंदू धर्म अपनाने पर खुशी जताई है।

वकील ने यूसीए न्यूज से कहा, मैं बेहद खुश हूं। फाइनली उन्होंने अपनी धार्मिक भावनाएं साफ कर दी हैं। मैं इससे पहले उनके धर्म को लेकर बेहद संशय में था। वह खुद को मुस्लिम कहती थीं, लेकिन इस्लाम की निंदा करती थीं।

इंडोनेशिया के दूसरे सबसे बड़े इस्लामिक ऑर्गेनाइजेशन मुहम्मदिया के जनरल सेक्रेटरी अब्दुल मुफ्ती ने कहा कि वह सुकमावती के फैसले का सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा, यह सुकमावती का अपना फैसला है। उन्होंने हिंदुत्व को चुना है। उम्मीद है कि अब वह शांति और खुशी महसूस करेंगीं।

इंडोनेशिया सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश

इंडोनेशिया में इस्‍लाम ही प्रमुख धर्म है। दक्षिण-पूर्वी एशिया के इस देश में दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी रहती है। दुनिया की कुल मुस्लिम आबादी का करीब 12.7% हिस्सा यहां रहता है। हालांकि इंडोनेशिया के बाली द्वीप पर बड़ी संख्‍या में हिंदू भी रहते हैं और यहां बहुत सारे मंदिर बने हैं।

Previous articleजानिए आज कल क्या कर रहे हैं शाका लाका बूम-बूम के संजू, बच्चों को खूब पसंद आया था ये शो
Next articleसुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद पेगासस जासूसी मामले को लेकर राहुल गांधी ने उठाये ये सवाल