जब संसद भवन में पीएम नेहरु पर भड़क गई थी ये महारानी

भारत में कई ऐसे राजघराने के लोग रहे जिन्होंने राजनीति में कदम रखा। ज्योतिरादित्य सिंधिया से वसुंधरा राजे जैसे नाम आज राजनीति के चर्चित चेहरे हैं। ऐसा ही एक नाम हुआ करता था महारानी गायत्री देवी का। वह तीन बार लोकसभा सांसद रहीं। एक बार तो वह लोकसभा के अंदर ही देश के पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू पर भड़क पड़ी थीं।

आइए जाने पूरा मामला:

गायत्री जेवी जयपुर राजघराने की महारानी थीं। उनकी शादी जयपुर के महाराज मान सिंह II से हुई थी। 2009 में गायत्री देवी का निधन हो गया था।

महारानी गायत्री देवी तीन बार लोकसभा सांसद रहीं। पहली बार वह 1962 में रिकॉर्ड मतों के अंतर से जीतकर संसद पहुंची थीं। अपने पहले ही कार्यकाल में वह देश के तत्कालीन पीएम पर भड़क गई थीं।

पूरा मामला 1962 में तब का है जब चीन ने भारत के कुछ हिस्सों पर कब्जा जमा लिया और फिर आगे चलकर युद्ध भी हुआ। तब नेहरू सरकार को विपक्ष ने खूब घेरा। हालांकि सरकार की आलोचना करने वाले सांसदों को सदन में कुछ लोग खूब मजाक भी बनाते थे। ऐसा ही कुछ हुआ गायत्री देवी की पार्टी के ही एक सांसद प्रोफेसर एनजी रंगा के साथ।

गायत्री देवी ने पत्रकार शेखर गुप्ता को दिये एक इंटरव्यू में उस दिन का जिक्र करते हुए बताया – प्रोफेसर रंगा ने सदन में चीन को लेकर नेहरू की नीतियों के खिलाफ अपनी बात कहने के बाद मुझसे कहा कि देखना पीएम नेहरू मेरा मजाक उड़ाएंगे। मैंने पूछा कैसे तो वह बोले बस आप देखते जाओ।

पीएम नेहरू जब विपक्ष के सवालों का जवाब देने उठे तो उहोंने प्रोफेसर रंगा की चुटकी लेते हुए कहा कि प्रोफेसर रंगा…प्रोफेसर लोगों को तो देश के बारे में मुझसे भी ज्यादा जानकारी रहने लगी है।बकौल गायत्री देवी मुझसे रहा नहीं गया। मैं उठी और पं .नेहरू पर भड़क पड़ी। अगर आपको जानकारी होती तो हम आज जिस हाल में हैं उसमें ना होते।

गायत्री देवी जब बोलने लगीं तो नेहरू बैठ गए लेकिन सत्ता पक्ष के एक दूसरे सांसद उठे और बोलने लगे कि आपने क्या कहा एक बार फिर से बोलिए तो। गायत्री देवी ने फिर से वही बात दोहराई।

सारा सदन देखता रह गया कि पहली बार सांसद बनीं एक महिला किस तरह से पीएम पर तीखा हमला बोल रही है। बकौल गायत्री देवी अगले दिन लोकसभा के सेक्रेटरी ने उनसे बुलाकर कहा भी कि आपको उम्र में काफी बड़े नेता से इस तरह से बात नहीं करनी चाहिए थी।