Home मनोरंजन कंगना रनौत को मिला पद्म श्री तो भड़के सोनू सूद के फैंस,...

कंगना रनौत को मिला पद्म श्री तो भड़के सोनू सूद के फैंस, नाराजगी जाहिर कर शेयर कर रहे ऐसी तस्वीरें

बॉलिवुड ऐक्ट्रेस कंगना रनौत ने 8 नवंबर को नई दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में पद्म श्री अवॉर्ड लिया था। राष्ट्रपति के हाथों मिले इस अवॉर्ड से कंगना और उनके फैन्स काफी खुश हैं।

हालांकि कंगना को यह अवॉर्ड दिए जाने से एक धड़ा बेहद नाखुश है और सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी व्यक्त कर रहा है। इस धड़े में केवल कंगना के विरोधी ही नहीं बल्कि सोनू सूद के फैन्स भी शामिल हैं।

सोनू सूद के फैन्स ट्विटर पर इस बात पर नाराजगी जता रहे हैं कि उनके फेवरिट हीरो के इतने लोगों के मदद करने के बाद भी पद्म अवॉर्ड कंगना को दिया गया है।

लोगों का कहना है कि कंगना को केवल सरकार का सपोर्ट करने के लिए यह अवॉर्ड मिला है जबकि सही मायने में यह अवॉर्ड सोनू सूद को लोगों की मदद किए जाने के लिए मिलना चाहिए था।

दरअसल, कांग्रेस नेता उदित राज ने सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि यह सम्मान उन लोगों को नहीं दिया जाता है जो काम करते हैं बल्कि उन लोगोंं को मिलता है जो झूठ और नफरत फैलाते हैं।

एक तरफ जहां कंगना के फैंस उनकी इस उपलब्धि से बेहद खुश हैं, वहीं सोनू सूद के चाहने वाले खासे नाराज हुए। वहीं कांग्रेस नेता ने भी इसपर आपत्ति जताई कि सोनू सूद को ये सम्मान क्यों नहीं दिया गया है।

उदित राज ने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि पद्मश्री सम्मान सोनू सूद को मिलना चाहिए था।

उन्होने ट्वीट किया है कि लोग हैरान हैं कि पदमश्री सोनू सूद को मिलना चाहिए था मिला कंगना रनौत को। किस दुनिया में हो , यहां काम पर नही झूठ और नफरत फ़ैलाने पर मिलता है।

वहीं एडिशनल एडवोकेट जनरल ऑफ छत्तीसगढ़, अशोक बसोया ने भी कहा कि मेरा एक सवाल है मोदी जी से कि सोनू सूद को पद्मश्री क्यों नहीं दिया गया?’

बता दें कि पिछले साल और इस साल कोरोना वायरस की दोनों लहर के दौरान सोनू सूद ने आम लोगों की खूब मदद की थी। इससे एक बड़े वर्ग की भीड़ की नजर में वह हीरो बन गए। अब सोनू के फैन्स के ट्वीट्स के जवाब में कंगना के फैन्स भी ट्वीट कर सोनू सूद की आलोचना कर रहे हैं।

Previous articleपंजाब में भी लखीमपुर जैसी घटना, किसानों के हितैषी बनने वाले अकाली दल ने दी ये सफाई
Next articleगुजरात दं’गों पर सुप्रीम कोर्ट में बोली जकिया जाफरी, कहा: ‘कारसेवकों के श’वों को घुमाकर तैयार की गई..’