सालों पुराने जोड़ों के दर्द को छूमंतर करती है मूंगफली, जानें कैसे ?

loading...

मूंगफली ना सिर्फ खाने में स्वादिष्ट होती है बल्कि इसे सेहत का खजाना भी कहा जाता है। सर्दियों के मौसम में मूंगफली का सेवन बादाम से कम नहीं है। आमतौर पर सर्दियों में उपलब्‍ध होने वाली मूंगफली कीमत के लिहाज से भले ही बादाम के मुकाबले बेहद कम हो, लेकिन गुणों के लिहाज से यह बादाम जितनी ही फायदेमंद है। मूंगफली में कई रोगों को छूमंतर करने की कुदरती कला होती है। जो लोग सालों से जोड़ों के दर्द से परेशान हैं, उनके लिए मूंगफली रामबाण इलाज है। शायद आपको हमारी इस बात पर यकीन ना आए, लेकिन ये सच है कि मूंगफली मीट और अण्डे की तुलना में काफी शक्तिशाली होती है।

हड्डियों के लिए मूंगफली

उम्र बढ़ने के साथ-साथ हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं। उम्रदराज स्त्रियों को यह समस्या ज्य़ादा परेशान करती है। इसकी वजह से हलकी सी चोट लगने पर भी हड्डी टूटने का डर रहता है। डेनमार्क के शोधकर्ताओं ने कमज़ोर हड्डियों को मज़बूत बनाने वाले खाद्य पदार्थों पर शोध किया है। उनके अनुसार मूंगफली में हड्डियों को मज़बूत बनाने वाला प्राकृतिक तत्व रिस्वेराट्रॉल होता है।

 

लोगों के एक बड़े समूह पर मूंगफली और इससे बनी चीज़ों का परीक्षण करवाने के बाद विशेषज्ञ इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि इनका सेवन करने से शरीर में हड्डी बनाने वाली कोशिकाएं पनपनी शुरू हो गईं। साथ ही रीढ़ की हड्डी भी मजबूत हुई। इसलिए सर्दियों में नियमित रूप से मूंगफली का सेवन करें। हां, जिन लोगों को एलर्जी हो, उन्हें इससे दूर रहना चाहिए। इसका सेवन करने से पहले आप चाहें तो एक बार डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

मूंगफली खाने के फायदे

मूंगफली वानस्पति प्रोटीन का स्त्रोत है।
मूंगफली में मांस की तुलना में 2.3 गुना और अण्डे की तुलना 2.5 गुना और फलों की तुलना में 7 गुना अधिक प्रोटीन होता है।

मूंगफली में न्यूहट्रियन्टीस, मिनरल, एंटी-ऑक्सीडेंट और विटामिन जैसे पदार्थ पाए जाते हैं। इसमें प्रोटीन, चिकनाई और शर्करा पाई जाती है। एक अंडे के मूल्य के बराबर मूंगफलियों में जितनी प्रोटीन व ऊष्मा होती है, उतनी दूध व अंडे से संयुक्त रूप में भी नहीं होती।

100 ग्राम कच्ची मूंगफली खाना, एक लीटर दूध पीने के बराबर होता है।
मूंगफली खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है और हमारी पाचन क्रिया दुरस्त भी होती है।
250 ग्राम भुनी हुई मूंगफली खाने से हमारे शरीर को जितने खनिज और विटामिन्स मिलते हैं उतने 250 ग्राम चिकन खाने से भी नहीं मिलते हैं।

मूंगफली में न्यट्रीशन्स, मिनिरल्स, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं।
मूंगफली हमारे खराब कोलेस्ट्राल को अच्छे कोलेस्ट्राल में बदलती है।
अगर आप सर्दी के मौसम में मूंगफली खाएंगे तो आपका शरीर गर्म रहेगा। यह खाँसी में उपयोगी है व फेफड़े को बल देती है। एक बात ध्यान रखने की है कि मूंगफली पाचन शक्ति को बढ़ाती है, रुचिकर होती है, लेकिन गरम प्रकृति के व्यक्तियों को हानिकारक भी है।

मूंगफली में जितना प्रोटीन और एनर्जी होती है उतनी अण्डे में भी नहीं होती है।
मूंगफली में पाया जाने वाला प्रोटीन दूध से मिलता है और चिकनाई घी से मिलती है।
अकेली मूंगफली दूध, घी और बादाम की कमी को पूरा कर देती है।

इसे गरीब का बादाम कहा जाता है। मूंगफली खाने से शरीर गर्म रहता है और फेफड़ों को बल मिलता है।
खाने के बाद इसका सेवन करने से पाचन तंत्र अच्छा होता है और मोटापा कमजोर इंसान हेल्दी होता है।
श्वास के मरीजों के लिए भी मूंगफली खाना फायदेमंद होता है।
मूंगफली गर्म होती है इसलिए जिन लोगों को गर्म चीज खाने से परेशानी होती है वो इसका कम सेवन करें।

loading...