पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम हुई तो संजय राउत ने किया कटाक्ष, कहा: ’50 रूपये से नीचे लाने के लिए भाजपा को…’

केंद्र सरकार की ओर से पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती किए जाने के एक दिन बाद शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने गुरुवार को कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत 50 रुपये से भी नीचे लानी है तो भाजपा को पूरी तरह हराना होगा।

राज्यसभा सदस्य राउत ने संवाददाताओं से बातचीत में केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि ईंधन की कीमत 100 रुपये से ऊपर बढ़ाने के लिए किसी को भी बहुत कठोर होना पड़ता है।

उन्होंने कहा, ‘‘उपचुनाव में भाजपा की हार के बाद केंद्र सरकार ने पेट्रोल की कीमत में पांच रुपये की कमी कर दी। अगर कीमत को 50 रुपये से नीचे लानी है तो भाजपा को पूरी तरह हराना होगा।’’शिवसेना नेता ने दावा किया कि लोगों को दिवाली मनाने के लिए कर्ज लेना पड़ा है और महंगाई की वजह से उत्सव का कोई माहौल नहीं है।

बताते चलें कि केंद्र सरकार द्वारा उत्पाद शुल्क दरों में रिकॉर्ड कटौती के बाद तेल कंपनियों द्वारा इसका फायदा ग्राहकों को देने के चलते गुरुवार को देश भर में पेट्रोल की कीमतों में 5.7 रुपये से 6.35 रुपये तक और डीजल की कीमतों में 11.16 रुपये से 12.88 रुपये तक की कटौती हुई।

केंद्र सरकार ने आम लोगों को महंगाई से कुछ राहत देने के लिये बुधवार को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में क्रमश: पांच रुपये तथा 10 रुपये की कटौती की थी।

चूंकि राज्यों द्वारा स्थानीय बिक्री कर या वैट (मूल्य वर्धित कर) सिर्फ आधार मूल्य पर नहीं, बल्कि केंद्र द्वारा लगाए गए उत्पाद शुल्क पर भी लगाते हैं, इसलिए ईंधन की कीमतों में वास्तविक अधिक कटौती हुई है। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा जारी मूल्य अधिसूचना के अनुसार दिल्ली में पेट्रोल की कीमत में 6.07 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 11.75 रुपये प्रति लीटर की कटौती हुई।

पेट्रोल की कीमतों में सबसे कम कटौती दादर और नगर हवेली में हुई, जहां दाम 5.7 रुपये घटे। राजस्थान में सबसे अधिक 6.35 रुपये प्रति लीटर की कटौती हुई।डीजल के लिहाज से चेन्नई में सबसे कम 11.16 रुपये प्रति लीटर और ओडिशा में सबसे अधिक 12.88 रुपये प्रति लीटर की कटौती हुई। वैट की दरें विभिन्न राज्यों में अलग-अलग होती हैं, जिससे ईंधन की दरों में अंतर होता है।