राजमिस्त्री की बेटी मुस्कान जाएगी अमेरिका, बॉबसन कॉलेज से मिली 2.30 करोड़ की स्कॉलरशिप, जानिए कैसे…!

उत्तर प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर में एक राजमिस्त्री की बेटी की चर्चा हर तरफ हो रही है. बेटी ने प्रतिभा की ऐसी उड़न भरी की सात समुंद्र पार अमेरिका (America) तक अपनी काबिलयत का डंका बजाकर सबको हैरान कर दिया है.

दरअसल, जनपद की पुरकाजी नगर पंचायत के बाजार खुर्द मोहल्ले के अय्यूब अंसारी राज मिस्त्री हैं. उनकी 18 वर्षीय बेटी मुस्कान अंसारी को उनकी प्रतिभा के चलते अमेरिका के मशहूर बाबसन कॉलेज से उच्च शिक्षा के लिए 100 फीसदी स्कॉलरशिप मिली है.

इस स्कूल की है छात्रा

जानकारी के मुताबिक मुस्कान फिलहाल बुलंदशहर के विद्या ज्ञान स्कूल में पढ़ाई कर रही हैं. 2014 में प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद उसका यहां दाखिला हुआ था. विद्या ज्ञान स्कूल माध्यम वर्ग के कम आय वाले परिवारों के छात्रों को मुफ्त में शिक्षा प्रदान करता है.

साथ ही कम आय वाले परिवारों के बच्चों के अन्य खर्चों का भार भी इस स्कूल के प्रशासन द्वारा ही उठाया जाता है. मुस्कान अभी 12वीं की परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार कर रही हैं.

अगर बात 10वीं की परीक्षा की करें तो सीबीएसई बोर्ड से मुस्कान ने 97.6 फीसदी अंक हासिल किए थे. मुस्कान का चयन मैसाचुसेट्स के बाबसन कॉलेज में हुआ है. कॉलेज ने उच्च शिक्षा के लिए मुस्कान को 100 फीसदी स्कॉलरशिप ऑफर की है. अब वह इस संस्थान में इंटरप्रेन्योरशिप की पढ़ाई कर अपने भविष्य को उज्वल बनाएगी.

लोगों ने किया स्वागत

ईद पर अपने घर पुरकाजी आई मुस्कान को क्षेत्रीय लोगों ने मिठाई खिलाकर जोरदार स्वागत किया. इस दौरान मुस्कान में मीडिया से बात करते हुए बताया कि मैं इसका का श्रेय अपने परिवार को और अपनी टीचर को देना चाहूंगी. इसमें मेरे परिवार का बहुत अच्छा सहयोग रहा है.

वह लोग हमेशा मोटिवेट करते हैं. देश के लिए कुछ अच्छा कर जाओ इसी की शिक्षा देते हैं. देश के लिए आगे और अच्छा काम करके गए हैं उन्हीं की तरह में देश के लिए कुछ अच्छा करना चाहती हूं.

अपने समाज के लिए मैं सबसे पहले अनुरोध करना चाहूंगी मम्मी-पापा से कि वह अपने बच्चों को पढ़ाएं जो हमारी कम्युनिटी हैं. उसमें पढ़ाते नहीं हैं, सबसे बड़ी बात यह है.

क्या बोला भाई?

वहीं मुस्कान की इस काबिलयत के बारे में बताते हुए उनके भाई मौहम्मद आमिर ने बताया कि मेरी बहन को अमेरिकन ने स्कॉलरशिप दी है. वह विद्याज्ञान स्कूल बुलंदशहर में पढ़ाई करती थी.

जब भी वे घर आती थी तो बहुत देर तक पढ़ाई करती रहती थी. जब मैं रात को जागता था, दो बजे भी तो बहन को पढ़ाई करते हुए देखता था. यह बहुत खुशी की बात है कि आज मेरी बहन पर पूरा जिला खुश हैं.

मेरी बहन का सपना था कि इंजीनियर बन जाए और देश का नाम रोशन करें. यही चाहता हूं कि मेरी बहन जनपद का नाम भी रोशन करे. इसका अमेरिका के बाबसन कॉलेज में सिलेक्शन हुआ है. हमें बहुत कठिन आई और बहुत गरीबी का सामना करना पड़ा, हमारे पिता राजमिस्त्री हैं.