यूपी की सड़कों पर भिखारी बने घूम रहा था ये शख्स, सच सामने आया तो निकला बैंक मैनेजर, ये है पूरा मामला…!

हम हमेशा सड़क के किनारे गरीब या भिखारी देखते हैं. कभी हम उन्हें खिलाते हैं तो कभी हम उन्हें पैसे देते हैं. लेकिन उत्तर प्रदेश के एटा से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है जिसे सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

एक बुजुर्ग भिखारी के वेश में कई दिनों से घूम रहा था. कोई नहीं जानता था कि वह कौन था और कहां से आया था, लेकिन जब उसकी पहचान हुई तो लोग हैरान रह गए.

सच्चाई सामने आने पर हर कोई रह गया हैरान

यह बुजुर्ग भिखारी नहीं था. लोगों को जब इस शख्स की असलियत समझ में आई तो हर कोई हैरान हो गया. उनकी हालत पर किसी को विश्वास नहीं हो रहा था. दरअसल, भिखारी गुजरात का रहने वाला है.

वह नौवारी जिले में बैंक मैनेजर के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं. वे महाप्रबंधक का पद भी संभाल चुके हैं. भिखारी को अक्सर रोडवेज बस स्टैंड के पास घूमते देखा जाता था. इसी बीच किसी ने उनका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया.

रविवार को जब वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो लोगों को इस भिखारी की सच्चाई का पता चला. गुजरात के नवसारी थाना क्षेत्र के चिखली जिले के रनवेरी गांव निवासी दिनेश कुमार उर्फ ​​दीनू भाई पटेल अप्रैल से लापता है, जिसकी चिखली थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज है.

दरअसल दिनेश कुमार की दिमागी हालत ठीक नहीं और इसी वजह से वह ऐसी स्थिति में है. सूचना मिलते ही उसे पुलिस स्टेशन ले जाया गया. पुलिस ने गुजरात के नवसारी जिले के रणबेरी गांव में दिनेश के परिवार को उनकी जानकारी दी.

दिनेश के परिवार को जैसे ही सूचना मिली, गुजरात से उनका परिवार उन्हें लेने एटा पहुंचा. दरअसल, वह 2009 में जनरल मैनेजर के पद से सेवानिवृत्त हुए थे. दिनेश गरीब नहीं हैं, उनके पास बहुत पैसा है. मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण वह आज इस स्थिति में हैं.