Home भारत संघ के गढ़ नागपुर में कांग्रेस का बोलबाला, जिला परिषद चुनाव में...

संघ के गढ़ नागपुर में कांग्रेस का बोलबाला, जिला परिषद चुनाव में बीजेपी को मिली सिर्फ इतनी सीटें

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी RSS का मुख्यालय नागपुर में है। नागपुर महानगर पालिका पर बीते 15 सालों से बीजेपी का कब्जा है। पिछली दो बार से नागपुर से बीजेपी के नितिन गडकरी लोकसभा चुनाव जीत रहे हैं और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस यहां से विधानसभा चुनाव ल’ड़ते हैं। नागपुर उनका घर है।

इसके बावजूद हाल ही में आए जिला परिषद और पंचायत समिति के नतीजे बीजेपी के लिए उत्साहजनक नहीं हैं। नागपुर जिले में आने वाली जिला परिषद की 16 सीटों में से 9 कांग्रेस ने जीत ली हैं। बीजेपी महज 3 सीटें जीत सकी।

जबकि 2012 से 2017 वाले कार्यकाल में बीजेपी इसी जिला परिषद में शिवसेना के साथ बहुमत में रही है। पार्टी के एक सीनियर लीडर का कहना है कि मोदी जी के जीतने के बाद जहां भी छोटे-बड़े चुनाव हुए, वहां हमें सफलता मिली लेकिन इस बार परफॉर्मेंस ज्यादा ही खराब हो गया।

वहीं कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में उत्साह है, क्योंकि उन्होंने 9 सीटें जीत ली हैं। ऐसे में सवाल खड़े हो रहे हैं कि जिस शहर में संघ का मुख्यालय है और जहां से बीजेपी के दो दिग्गज नेता नितिन गडकरी और देवेंद्र फडणवीस आते हैं, वहां बीजेपी इतनी पि’छड़ी क्यों। पढ़िए इस रिपोर्ट में।

बड़े चेहरे कैंपेन से दूर रहे, अंदरूनी लड़ाई पार्टी को कमजोर कर रही

कांग्रेस ने इस चुनाव में अपने मंत्री सुनील केदार और नितिन राउत को पहले दिन से ही मैदान में दौड़ा रखा था। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी नाना पटोले खुद पूरा कैंपेन देख रहे थे। जबकि बीजेपी के दिग्गज नेता देवेंद्र फडणवीस और नितिन गडकरी कैंपेन से दूर ही रहे।

बीजेपी ने चंद्रशेखर बावनकुले को कैंपेन की जिम्मेदारी सौंपी। उन्होंने कई रैलियां भी कीं, लेकिन कार्यकर्ता उत्साहित नहीं हो पाए। बावनकुले को खुद को ही विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिला था।ऐसे में विपक्षियों ने यह सवाल भी जनता के बीच उठाया कि जिसे खुद ही टिकट नहीं मिला वो आप लोगों का नेतृत्व कहां और कैसे कर सकेगा।

सीनियर जर्नलिस्ट अशोक वानखेड़े कहते हैं, बीजेपी महाराष्ट्र में अपने अंदरूनी झगड़े के कारण कमजोर हो रही है और शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस की तिकड़ी ने उसकी चुनौतियों को दोगुना कर दिया है, क्योंकि वे एक स्ट्रैटजी के साथ मिलकर लड़ रहे हैं।

यदि महाविकास आघाड़ी इसी तरह परफॉर्म करते रहा तो लोकसभा की 48 में से 8 सीटें जीतना भी बीजेपी के लिए मुश्किल हो सकता है। पिछली बार बीजेपी का प्रदर्शन अच्छा था, लेकिन तब बीजेपी और शिवसेना साथ-साथ थे। इस बार ऐसा नहीं है। अभी जो लोकल बॉडीज के नतीजे आए हैं, उससे लोगों का रुझान पता चलता है।

नितिन गडकरी और देवेंद्र फडणवीस के नागपुर में भी बीजेपी का अच्छा प्रदर्शन न कर पाना उसके लिए एक वॉर्निंग की तरह है। यहां किसान आंदो’लन का भी असर था और महंगाई ने भी बीजेपी को नुकसान पहुंचाया, लेकिन बीजेपी की हार की सबसे बड़ी वजह अंदरूनी कलह रही।

85 में से 46 सीटें महाविकास आघाड़ी ने जीती

महाराष्ट्र में जिला परिषद की 85 और पंचायत समिति की 144 सीटों पर हुए उपचुनाव में महाविकास आघाड़ी (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी का संयुक्त मोर्चा) ने BJP को पछाड़ा है।

जिला परिषद की 85 सीटों में से 22 सीटें जीतकर बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी, लेकिन शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन यानी महाविकास आघाड़ी को 46 सीटें मिलीं। इसी तरह पंचायत समिति में बीजेपी को 33 सीटें मिली, जबकि कांग्रेस ने 35 सीटें जीत लीं। वहीं महाविकास आघाड़ी के खाते में कुल 73 सीटें गईं।

Previous articleड्राईवर को हटा सीएम गहलोत के ‘पायलट’ बने सचिन, ये नजारा देखकर लोग रह गए हैरान
Next article68 साल बाद टाटा की हुई एयर इंडिया तो लोगों ने ऐसे दे डाली बधाई