शाहरुख़ खान के समर्थन में आई शिवसेना, आर्यन खान को लेकर उठाया ये बड़ा कदम

ड्र’ग्स केस में गिरफ्ता’र हुए बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत पर 20 अक्टूबर को फैसला आना है। हालांकि इस मामले में अब सिया’सत भी तेज हो गई है।

बता दें कि आर्यन खान को लेकर शिवसेना सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पहुंच गई है। शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने अपनी तरफ से एक याचिका दायर की है, जिसमें आरो’पियों के मौ’लिक अधिकारों का हवा’ला दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई है कि, ड्र’ग्स केस में एनसीबी की भूमिका की जांच की जाये।

सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा NCB की जांच की मांग:

शिवसेना नेता ने अपनी याचिका में आ’रोप लगाया है कि एनसीबी गलत भावना के साथ काम कर रही है। उन्होंने कहा कि, पिछले दो सालों से एनसीबी के अधिकारी मशहूर और चुनिंदा फिल्मी हस्तियों को अपना निशा’ना बना रहे हैं। ऐसे में एनसीबी के अधिकारियों की भूमिका को लेकर जांच होनी चाहिए।

याचिका में कहा गया है कि मामले का सच पता लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा एनसीबी की जांच हो। किशोर तिवारी ने आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग करते हुए चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना से इस मामले में स्वतः संज्ञान लेने की अपील की है।

भाजपा ने जताया विरोध: वहीं शिवसेना की याचिका को लेकर बीजेपी प्रवक्ता राम कदम ने शिवसेना और अघा’ड़ी सरकार पर हम’ला बोला है। उन्होंने कहा कि, क्या महाराष्ट्र सरकार और ड्र’ग माफि’याओं के बीच कोई रिश्ता है, जो शिवसेना नेता उनका बचाव कर रहे हैं।

राम कदम ने कहा, सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना नेता इस मुद्दे को उठा रहे हैं। हम किसी के विरो’ध में नहीं है, हम शाहरुख खान या किसी अन्य बॉलीवुड कलाकार के विरो’ध में नहीं हैं।

उन्होंने सवाल किया कि, क्या महाराष्ट्र सरकार के नेताओं को ड्र’ग्स माफियाओं से पैसे मिल रहे हैं। हो सकता है इसी वजह से वे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से ड्र’ग माफि’याओं के बचाव में खड़े हो रहे हैं।

20 को जमानत पर फैसला:

बता दें कि, आर्यन खान अभी आर्थर रोड जेल में बंद हैं। मुंबई के सेशंस कोर्ट में उनके वकीलों ने जमा’नत की याचिका डाली थी, जिसपर सुनवाई पूरी हो चुकी है, इसपर फैसला 20 अक्टूबर को आएगा।