गरीबी के कारण माँ ने भेजा अनाथालय, कभी टोकरियां बेचीं, कभी बेचा पान, फिर ऐसे बदली किस्मत, आज हैं IAS ऑफिसर..!

यह कहानी उदाहरण प्रस्तुत करती है कि कैसे आपको अपने सपनों को प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता। यह एक प्रेरणा के रूप में कार्य करता है कि समर्पण और कड़ी मेहनत कैसे भुगतान करती है। मिलिए मोहम्मद अली शिहाब से, जो 2011 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने अपना बचपन आर्थिक कठिनाइयों के … Read more