बचपन में हुई दुर्घटना में गंवा बैठे दोनों हाथ, अब इस तरह पैरों से लिख रहे हैं नई इबारत, बनना चाहते हैं IAS…!

कहा जाता है कि अगर हौसला, दृढ़ इच्छा और समर्पण भाव हो तो कोई भी बाधा व्यक्ति को उसकी मंजिल तक पहुंचने से नहीं रोक सकती. बिहार के मुंगेर जिला के संत टोला निवासी नंदलाल ने भी ऐसा ही कुछ करने की ठानी है. नंदलाल को भले ही बचपन में हुई एक दुर्घटना में दोनों … Read more