यूपी में बिना अनुमति के 9 साल से छुट्टी पर है सरकारी स्कूल का ये प्रिंसिपल. फिर भी हर महीने मिलता है वेतन…!

अलीगढ़ में एक सरकारी स्कूल पिछले 9 वर्षों से बिना प्रिंसिपल के ही संचालित हो रहा है. ये प्रिंसिपल बिना अनुमति के पिछले 9 सालों से अनुपस्थित है. हैरानी की बात तो ये है कि इस सबके बावजूद भी उसे सरकार से वेतन मिल रहा है. जिसमें कहीं ना कहीं बेसिक शिक्षा विभाग की मिलीभगत सामने आ रही है.

यह मामला जिले के पूर्व माध्यमिक विद्यालय कलियानपुर रानी वि० क्षे० अतरौली अलीगढ़ का है. जिलाधिकारी अलीगढ़ इंद्र विक्रम सिंह ने मामले का संज्ञान लेते हुए कहा है कि संबंधित प्रिंसिपल की संबद्धता को तत्काल समाप्त कर विद्यालय भेजा जा रहा है, प्रिंसिपल के विरुद्ध जांच कर कार्यवाही के निर्देश भी दिए गए हैं.

दरअसल, उत्तर प्रदेश के जिला अलीगढ़ की तहसील इलाके के गाँव कलियानपुर रानी स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय के वेदपाल सिंह नाम के अध्यापक ने बताया कि वह जुलाई 2007 से इस विद्यालय में पढ़ा रहा है.

अप्रैल 2014 में सीनियोरिटी के आधार पर विद्यालय में प्रिंसिपल के तौर पर प्रदीप कुमार को नियुक्त किया गया. विद्यालय के प्रिंसिपल होने के बाद प्रदीप कुमार 13 अप्रैल 2014 से लगातार बिना किसी सूचना के अनुपस्थित चल रहे हैं.

जिसके संबंध में बीएसए ऑफिस में लगातार पत्राचार करके कार्रवाई हेतु सूचित भी किया गया, लेकिन विभाग द्वारा शिकायत पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया. पिछले 9 सालों से प्रिंसिपल अनुपस्थित रहने के बावजूद भी सरकार से सैलरी लेता आ रहा है.

वेदपाल के मुताबिक वह बिना किसी ऑथेंटिक लेटर के स्कूल के लेखा जोखा को संभाले हुए हैं. जिससे कि स्कूल का माहौल खराब न हो.

कलेक्टर ने दिए प्रिंसिपल के विरुद्ध जांच कर कार्यवाही के निर्देश

जिलाधिकारी अलीगढ़ इंद्र विक्रम सिंह ने मामले में संज्ञान लेते हुए कहा है कि संबंधित प्रिंसिपल की संबद्धता को तत्काल समाप्त कर विद्यालय भेजा जा रहा है. प्रिंसिपल के विरुद्ध जांच कर कार्यवाही के निर्देश भी दिए गए हैं, लेकिन यहाँ सवाल यह खड़ा होता है कि ऐसे शिक्षक के विरुद्ध क्या कार्रवाई और सामने आती है.

क्या बिना अनुमति अनुपस्थित रहकर 9 वर्षों से लिये गए वेतन पर कोई कार्रवाई भी भविष्य सामने आयेगी या फिर यह मामला भी विभाग की लीपापोती में शामिल हो जाएगा.