Home भारत उत्तर प्रदेश: चुनाव से पहले बनारस में अमित शाह लेंगे मास्टर क्लास,...

उत्तर प्रदेश: चुनाव से पहले बनारस में अमित शाह लेंगे मास्टर क्लास, 700 से ज्यादा बीजेपी नेता शामिल होने की उम्मीद

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों के मद्देनजर गृह मंत्री अमित शाह 12 नवंबर को यूपी के वाराणसी में चुनावी बैठक करेंगे। इस मीटिंग में 700 भाजपा नेताओं के शामिल होने की जानकारी है।

वहीं बैठक में भाग लेने के लिए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, दोनों उपमुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान की पूरी टीम भी वाराणसी में मौजूद होगी।

अमित शाह का यह दौरा दो दिवसीय होगा। शुक्रवार को अपराह्न करीब चार बजे वो बाबतपुर एयरपोर्ट से सीधे हस्तकला संकुल जाएंगे। इससे पहले हस्तकला संकुल में दोपहर 12 बजे से ही भाजपा के चुनाव प्रबंधन टीम की बैठक शुरू होगी।

बता दें कि इस बैठक में 98 जिलाध्यक्ष और जिला प्रभारी, सभी 403 विधानसभा सीटों के प्रभारी शामिल होंगे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के 6 क्षेत्रीय अध्यक्ष, राज्य भाजपा के सभी वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ-साथ प्रभारी और सह-प्रभारियों को शाह संग मीटिंग के लिए वाराणसी बुलाया गया है।

मालूम हो कि अगले साल की शुरुआत में ही यूपी विधानसभा चुनाव होने हैं। इस बीच भाजपा सदस्यता अभियान चला रही है। ऐसे में अमित शाह मास्टर क्लास के जरिए राज्य में भाजपा की स्थिति पर मंथन करेंगे।

पार्टी के एक सूत्र ने कहा कि “इस बैठक में चुनावी अभियान की दिशा तय होगी। वहीं तैयारियां की गति पर भी अमित शाह अपने विचार देंगे।

इस बैठक के अलावा गृह मंत्री शाह अलग-अलग आधा दर्जन बैठकों में भी भाग लेंगे। इसके बाद वो अमेठी कोठी में कुछ प्रबुद्ध लोगों से मुलाकात करेंगे। जिसमें संगठन के लोगों से फीडबैक भी लेंगे।

बता दें कि शाह की बैठक को लेकर यूपी भाजपा हर विधानसभा से जुड़े आंकड़ों को जुटाने की तैयारी कर रही है। जिसे गृह मंत्री के सामने पेश किया जाएगा।

वहीं वाराणसी दौरे के अलावा अमित शाह लखनऊ और आजमगढ़ का भी दौरा करेंगे। अमित शाह जहां 13 नवंबर को अखिलेश के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में होंगे तो वहीं 19 से 21 नवंबर के बीच लखनऊ में वार्षिक प्रधानमंत्री डीजीपी कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेंगे।

Previous articleलाइव डिबेट में कांग्रेस प्रवक्ता ने संबित पात्रा से राफेल पर पूछे ऐसे सवाल, लाजवाब हो गए बीजेपी नेता
Next articleपंजाब में भी लखीमपुर जैसी घटना, किसानों के हितैषी बनने वाले अकाली दल ने दी ये सफाई