Home मनोरंजन वरुण गांधी ने प्रियंका गांधी के साथ किसानों के हक़ में मिलाये...

वरुण गांधी ने प्रियंका गांधी के साथ किसानों के हक़ में मिलाये सुर से सुर

लखीमपुर खीरी घटना ने एक तरफ जहाँ दलीय राजनीति की सीमाओं को तोड़ दिया है वहीं कुछ हद तक पारीवारिक दूरियों को भी कम कर दिया है। दरअसल हम बात कर रहे हैं इंदिरा गांधी की दो बहुओं सोनिया और मेनका के बेटे और बेटी, प्रियंका और वरुण गांधी की।

हिरासत में ली गयीं प्रियंका गांधी

लखीमपुर खीरी की घटना के बाद इंदिरा की पोती और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को प्रशासन ने सीतापुर में हिरासत में ले लिया गया है।

वो घटना में मृ’त किसानों के परिजनों से मिलने लखीमपुर जा रही थीं। प्रियंका गांधी लखनऊ से किसी तरह पुलिस को चक’मा देने में कामयाब हो गयीं मगर रास्ते में सीतापुर के हरगाँव में पुलिस ने उन्हें रोक लिया और हिरा’सत में ले लिया।

“हिम्मत है तो छूकर दिखाओ”

 

इस दौरान प्रियंका गांधी और पुलिस के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई। प्रियंका गांधी ने पुलिसकर्मियों को चेतावनी देते हुए कहा कि हिम्मत है तो छूकर दिखाओ। उन्होंने कहा कि वो सारे कानून जानती हैं पुलिस उन्हें ऐसे ज़बरदस्ती नहीं ले जा सकती। वहीं हिरासत के दौरान प्रियंका गांधी का एक वीडियो भी वायरल हुआ जिसमें वो झाड़ू लगाते हुए दिख रही हैं।

बीजेपी सांसद वरुण गांधी भी उतरे किसानों के समर्थन में

दूसरी तरफ इंदिरा के पोते और बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने किसानों के समर्थन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की माँग की वहीं उन्होंने सलाह भी दी कि किसानों के साथ संयम का बर्ताव करें। अपने पत्र में वरुण गांधी ने घटना की जाँच सीबीआइ से कराने की मांग की।

सीएम योगी को लिखा पत्र

वरुण गांधी ने पत्र में लिखा कि, “ आन्दोलनकारी किसान भाई हमारे अपने नागरिक हैं। यदि कुछ मुद्दों को लेकर किसान भाई पीड़ित हैं और अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के तहत विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं तो हमें उनके साथ बड़े संयम और धैर्य के साथ बर्ताव करना चाहिए।”

वरुण ने की एक करोड़ मुआवज़ा दिये जाने की माँग

उन्होंने आगे लिखा कि, “मेरा आपसे निवेदन है कि इस घटना में संलिप्त तमाम संदिग्धों को तत्काल चिन्हित कर आईपीसी की धारा 302 के तहत ह’त्या का मुकदमा कायम कर सख्त से सख्त का’र्यवाही की जाए।

इस विषय में आदरणीय सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में सीबीआई द्वारा समयबद्ध सीमा में जाँच क’रवाकर दो’षि’यों को सजा दिलवाना ज्यादा उपयुक्त होगा।” साथ ही वरुण गांधी ने पत्र के माध्यम से पी’ड़ित परि’वारों को एक-एक क’रोड़ रुपये का मुआ’वजा भी दिये जाने की भी माँग की।

Previous articleप्रियंका गांधी से मिलने सीतापुर पहुंचे राहुल गांधी, साथ में है 2-2 सीएम
Next articleबीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारणी से बीजेपी सांसद वरुण गांधी और मेनका गांधी का नाम गायब, कांग्रेस नेता ने उठाये सवाल